Shayri #3

कहने को तो है बहोतकुछ पर अल्फ़ाज़ काफी नही,

तुमसे मोह्बत करने के लिए शायद इक़रार काफी नही;

माना के मोह्बत महफूज़ है इस दोस्ती के रिश्ते में,

कम्बख्त इस दिल का क्या करे जिसे ये प्यार काफी नही।

© Danish Sheikh

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s